Welcome to Maheshwari World

Karya Samiti Meeting

HomeEvents/MeetingsKarya Samiti Meeting

Indore Karya Samiti Report

 Click Here To Show Clips Of Indore Meeting

*इंदौर कार्यसमिति बैठक की संक्षिप्त रिपोर्ट *

महासभा के 28 वें सत्र की द्वितीय कार्यसमिति बैठक संयोगितागंज इन्दौर के माहेश्वरी भवन में 8 अप्रेल 2017 को अध्यक्ष श्यामसुन्दर जी सोनी की अध्यक्षता में बैठक प्रारम्भ हुई । भगवान महेश की पूजा और वन्दना के उपरान्त दिवंगत बंधुओं , सीमा पर वीरगति को प्राप्त हमारे बहादुर सैनिकों को श्रद्धांजलि दी गई ।

सभापति श्री श्यामसुन्दर जी सोनी ने अपने उद्बोधन में 4 नवीन ट्रस्ट्स के गठन की घोषणा -
1) रत्नीदेवी रामेश्वरलाल काबरा परिवार द्वारा महिला सशक्तिकरण हेतु ( 5 करोड़ की राशि परिवार द्वारा ) ,
2) भूतपूर्व सभापति स्वर्गीय चुन्नीलाल सोमाणी परिवार द्वारा प्राथमिक शिक्षा हेतु ( परिवार द्वारा 2 करोड़ की घोषणा ) , और
3) श्रीमती भगवतीदेवी महेश बलदेवा , हैदराबाद द्वारा बलदेवा फाउंडेशन के माध्यम से शिक्षा उन्नयन हेतु ( स्वयं द्वारा 2 करोड़ की घोषणा ) और
4) महासभा के अंतर्गत एक आपात सहायतार्थ ट्रस्ट की घोषणाएं हुई ।
ज्ञातव्य है कि ऊपर घोषित राशि मूल कॉर्पस फण्ड का 40% है । वास्तव में यह राशि 21 करोड़ से भी ज्यादा की होगी । उपरोक्त ट्रस्ट्स को विधिवत प्रारूप देने हेतु सदन की सहमति से एक समिति बनाई गई । इस समिति में सर्वश्री रामपाल जी सोनी , श्यामसुन्दर जी सोनी और आर एल काबरा रहेंगे । यह समिति अगली कार्यसमिति में अपनी पूर्ण जानकारी सदन के समक्ष प्रस्तुत कर देगी । सभापतिजी ने अन्य अनेक महत्वपूर्ण घोषणाए की । कार्यसमिति सदस्यों को सजग होकर समाज के उत्थान में अपनी महत्ती भूमिका निभानी होगी । अब यह संस्था डेकोरम की वस्तु नहीं रह गई है । सामाजिक और आर्थिक सर्वेक्षण की बात को विस्तार से श्री सोनी ने रखा । इस रिपोर्ट के आने के बाद हमें समाजोत्थान की एक विस्तृत और व्यवहारिक व्यवस्था बनाकर दृढ़ता से कार्य को गति देने की बात कही । इस कार्य को हमें 100 दिनों के अन्दर करना होगा ताकि इस कार्य की क्रियान्विति हो सके । बैठक के प्रारम्भ के केवल 30 मिनिट्स का समय आयोजक संस्था को दिया गया , किसी तरह का माल्यार्पण या मोमेंटो आदि का तामझाम नहीं किया गया । आयोजकों ने इस सत्र की कोलकाता में 18 दिसम्बर 2016 को आयोजित पदाधिकारियों की बैठक के निर्णयों का शब्दशः पालन किया । बैठक के प्रारम्भ में ही दुपट्टा भेंट कर अपनी "अपणायत " का परिचय दिया । अपनी बात को केवल मात्र 29 मिनिट्स में शाब्दिक स्वागत उपरान्त मञ्च व्यवस्था महामंत्रीजी को सौंप दी । श्री सोनी ने आयोजकों की भूरी भूरी प्रशंसा करते हुए हमें आगे भी इस ओर ही कदम बढ़ाने हैं ।

मञ्च व्यवस्था को सम्भालते हुए सर्वप्रथम महामंत्री श्री सन्दीप जी काबरा ने आयोजक संस्था का अभिवादन किया । फिर नाशिक कार्यसमिति की कार्यवाही को सदन समक्ष रखा । सारे सदस्यों ने एक स्वर से इस रपट को पारित किया । श्री काबरा ने सबका हार्दिक आभार प्रगट किया । मुख्य चुनाव अधिकारी श्री प्रकाशचंद्र जी बाहेती ने चुनाव सम्बन्धी अपनी रपट सदन समक्ष प्रस्तुत की । जिन प्रदेशों में चुनाव नहीं हुए हैं उनकी विस्तृत जानकारी दी । सदन ने एक राय से कहा कि एक तिथि निर्धारण के बाद भी यदि चुनावों में विलम्ब होता है तो वहाँ एक तदर्थ समिति बनाकर चुनावी प्रक्रिया सम्पन्न की जाय । आंध्रप्रदेश के चुनाव सम्बन्धी विस्तृत चर्चा सदन में हुई । अंततः सदन ने आंध्रप्रदेश के चुनाव पुनः व्यवस्थित कराने के निर्णय के साथ ही अभी हुए चुनावों को निरस्त कर दिया । दक्षिणी राजस्थान प्रदेश की चर्चा उपरान्त उदयपुर , चित्तोड़ जिलों के चुनावों के न होने की स्थिति में बाकी प्रदेश के चुनाव कराए जाने की बात पर सदन ने सहमति दी । संगठन मंत्री श्री अजय जी काबरा ने कार्य को व्यवहारिकता से गति प्रदान करने हेतु विभिन्न फार्म्स के प्रारूप सदन के समक्ष रखे ।

अर्थमंत्री श्री आर एल काबरा ने वर्ष 2016 - 2017 की महासभा की ऑडिटेड बैलेंस शीट सदन समक्ष प्रस्तुत की । अनेक सदस्यों ने श्री काबरा जी को साधुवाद दिया कि आपने 31 मार्च को समाप्त हुए वर्ष के लेख जोखा को ऑडिटर से 2 अप्रेल को विधिवत स्वीकृत करा लिया । सदन ने एक मत से इसे स्वीकृति प्रदान की । अर्थमंत्री जी ने उपरोक्त नवीन ट्रस्ट्स की डीड सम्बन्धी जानकारी सदन को दी । महासभा द्वारा बनाई गई विभिन्न समितियों के कुछ संयोजकों को विशेष रूप से आमंत्रित किया गया था । सभापतिजी ने " नवरत्न " संबोधित कर सदन से परिचय भी करवाया और 2 - 2 मिनिट्स इन महानुभावों को बोलने का भी अवसर दिया । मूल उद्देश्य यह था कि प्रदेश सभाएं इन्हें आमंत्रित कर समाज के सामने ज्वलन्त मुद्दों पर चर्चा करवाए । उपसभापतियों / संयुक्तमंत्रियों द्वारा अपने अपने अँचलों की प्रगति रिपोर्ट भी संगठन मंत्रीजी द्वारा बनाए गए परफॉर्मा अनुसार प्रस्तुत की गई । इस नए प्रयोग की सभी ने प्रशंसा की । सभी ट्रस्ट्स ने अपनी रिपोर्ट क्रमवार प्रस्तुत की । सदन से उठे प्रश्नों का सभी ट्रस्ट अधिकारियों ने समाधान भी दिया ।

माहेश्वरी बोर्ड की भावी योजनाओं को चेयरमेन श्री लक्ष्मीनारायण सोमाणी ने सदन समक्ष रखा । प्रकाशन संख्या बढ़ाने के प्रयासों पाए गम्भीर मन्त्रणा हुई । तहसील/क्षेत्रीय/जिला और प्रदेश सभाओं के कार्यकारी मण्डल सदस्यों को भी कमसेकम एक सत्र ( त्रैवार्षिक ) सदस्य बनाने का आह्वान किए जाने का सदन ने प्रस्ताव पारित किया । पहले दिन हुई बोर्ड की बैठक की जानकारी भी श्री सोमाणी जी ने सदन के समक्ष रखी । पुरानी क्षतिपूर्ति की भरपाई के लिए हुई व्यवस्था को भी बताया । बोर्ड के सदस्यों द्वारा विज्ञापन इकट्ठे करने की योजनाओं की सदन ने सराहना की । मुख्य बिन्दू यह रहा कि कैसे हमें कमसेकम 1000 जरूरतमंद परिवारों को निशुल्क पत्रिका पहुंचाई जाय । श्री सोमाणी ने आह्वान किया कि प्रदेश अध्यक्ष अपने जिला सभाओं के माध्यम से ऐसे परिवारों का चयन करें । बोर्ड के निवर्तमान चेयरमेन , जो सदन में उपस्थित थे , की पत्रिका को दी गई सेवाओं की सभी ने प्रशंसा की । युवा संगठन के अध्यक्ष श्री राजकुमार काल्या और महामंत्री श्री प्रवीण सोमाणी ने अपनी भावी योजनाओं को सदन समक्ष रखा । आगामी वृन्दावन कार्यकारी मण्डल बैठक में युवा संगठन के 100 सदस्य उपस्थित होंगे , ऐसी जानकारी दी । चूँकि महिला संगठन की अगले ही दिन उज्जैन में बैठक थी , इस कारण कोई उपस्थित नहीं ही सका ।
विधान संशोधन समिति के संयोजक श्री अशोक जी ईनाणी ने अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की ।
महासभा मान्यता प्राप्त सभी प्रदेश ट्रस्टों को अपनी आय का ८० प्रतिशत आमदनी सेवा कार्यों मे ख़र्च करना होगा ।
3 जून को जेष्ठ शुक्ल नवमी हमारे समाज का प्राकट्य दिवस है । इस पुनीत महेश नवमी महोत्सव को अवश्यमेव हर ग्राम से लेकर बड़े महानगर तक सोल्लास मनाना है । इस दिन बुजुर्गों का सम्मान हो , महिलाएं प्रोत्साहित हो , विद्यार्थी सम्मानित हो , सामूहिक सादगी पूर्ण भोज हो ।
सभी प्रदेशों को संगठन आपके द्वार पर शीघ्रताशीघ्र कार्य पूर्ण करना होगा ।
अब तक विधान हमें अधिकार का बोध करवाता था मगर अब नये संसोधन से हमे अपने कर्तव्य का भी बोध करायेगा ।

अब प्रत्येक कार्यकारी मण्डल सदस्य को निम्नलिखित कार्य करने होगे ।

  • 1) सभी कार्यकारी मण्डल सदस्य को ₹3,000/- सत्र शुल्क 30 जून 2017 तक अपने प्रदेशों के माध्यम से सदस्यता और शपथपत्र के मय 3 रंगीन पासपोर्ट साइज की फोटो के भुगतान करना होगा ।
  • 2) कार्यकारी मण्डल के सदस्यों को कम से कम दो बैठक मे उपस्थिति रहना करवाना आवश्यक होगा ।
  • 3)सभी कार्यकारीमण्डल सदस्य को मुख्य पत्रिका "माहेश्वरी " का आजीवन सदस्य बनना होगा एवं अतिरिक्त 5 नये सदस्य बनाना या माहेश्वरी पत्रिका को न्यूनतम हेतू दस हज़ार का आर्थिक सहयोग विज्ञापन के माध्यम से करना / करवाना अनिवार्य होगा ।
  • 4) कार्यकारी मण्डल सदस्य को अपने प्रदेश व ज़िला स्तर पर भी अपनी उपस्थिति से सक्रिय भूमिका निभानी है ।
  • 5) अब किसी भी विवाद को महासभा द्वारा नियुक्त समिति " माहेश्वरी लोक अदालत " मे निपटाया जायेगा । किसी भी परिस्थिति में कोर्ट में नहीं जाना है । जाने वाले सदस्य की सदस्यता समाप्त कर दी जाएगी ।
  • 6) किसी भी आयोजन /समस्या / विचारो को श्रृंखलाबद्ध तरीक़े से निवारण हेतू प्राथमिकता दी जायेगी ।
  • 7) जिन प्रदेशों मे चुनाव नहीं हुए हैं वहाँ आगामी 15 दिनो मे चुनावी प्रक्रिया की घोषणा करनी होगी अन्यथा उपयुक्त प्रदेश मे तदर्थ समिति का गठन कर चुनाव कराए जाएंगे ।
  • 8) सभी कार्यकारी मण्डल सदस्यों को अपनी पासपोर्ट फ़ोटो व विवरण फ़ार्म, महासभा परिचय पुस्तिका के लिए 15 मई 2017 तक अपने प्रदेश के माध्यम से सामूहिक भेजना होगा ।
  • 9) सभी प्रदेशों को बाल संस्कार / टॉक शो / कैरियर गाइड लाइन के प्रोग्राम आयोजित कराने होंगे ।
  • 10) सभी कार्यकारी मंडल सदस्यगण को महासभा या प्रदेशों सभा के ट्रस्टों को एक लाख रूपया का सहयोग पहुँचाने का प्रयास करना होगा ।
  • 11) सभापति और महामंत्री के कार्यालय मंत्रियों को संयुक्तमंत्री की जगह सहमंत्री कहा जाएगा और चूँकि ये दोनों पूरी महासभा का कार्य देखते हैं अतएव इन्हें क्रमसँख्या में उपसभापतियों के बाद रखा जाएगा ।
  • 12) आशा है , हम सभी कार्यकारी मण्डल सदस्यगण आगामी बैठक 20 अगस्त "वृन्दावन "से पहले अपने सभी कर्तव्यों का निर्वाहन कर महासभा को सहयोग प्रदान करेंगे ।

प्रथम दिवस 7 अप्रेल 2017 को माहेश्वरी बोर्ड , संविधान संशोधन समिति और अन्य समितियों की महत्वपूर्ण बैठकें आयोजित हुई । इसी दिन पदाधिकारियों की मैराथन बैठक में पूरी रूपरेखा पर गम्भीर चिन्तन हुआ । युवा और महिला संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ एक समन्वय बैठक भी हुई । इसमें यह तय हुआ कि महासभा की आगामी वृन्दावन की कार्यकारी बैठक में युवा और महिला संगठन भी भाग लेकर अपनी सहभागिता निभाएंगे ।

8 अप्रेल की कार्यसमिति बैठक के मध्य संयुक्तमंत्री श्री जुगलकिशोर सोमाणी की पुस्तक " भारतीय राजनीति का निर्णायक मोड़ : आओ पहल करें " का विमोचन कर सभी उपस्थित सदस्यों को पुस्तक भेंट की गई ।
इंदौर में आयोजित इस द्वितीय बैठक की शालीन व्यवस्था की पूरे सदन ने भूरी भूरी प्रशंसा की । व्यवस्था में श्री मुकेश जी असावा , श्री केदार जी हेड़ाऔर उनकी पूरी टीम में जो मार्गदर्शन रहा , अविस्मरणीय है । पूरी कार्यसमिति इंदौर वासियों के हृदय से अभिनंदन करती है , आभार प्रगट करती है । राष्ट्रगान के साथ सभा का विसर्जन हुआ । विदा होते कार्यसमिति सदस्यों को आयोजकों ने इंदौर की प्रसिद्ध नमकीन भेंट की ।

सुखद यात्रा की कामना के साथ सभी अपने अपने गन्तव्य को विदा हुए ।
जय महेश ।

Vrindavan Karya Samiti Report

 Click Here To Show Vrindavan Karya Samiti Report